Sunday, 18 May 2014

भ्रष्टाचार

        भारत की धरती पर 
         सबसे बड़ा कलंक 
       भ्रष्टाचार हमारे देश का 
        सबसे बड़ा आतंक 
        हर नए सवेरे के साथ हममे   
      भ्रष्टाचार रोकने को अंतर्द्वंद 
      फिर भी भ्रष्टाचार हमारे देश का  


सबसे बड़ा आतंक
रोज एक नई राह पर 
बढ़ने का है मन  
भ्रष्टाचार को जड़ से ख़त्म 
करने का है मन 
रिश्वत न लेने न देने का है मन 
फिर भी भ्रष्टाचार हमारे देश का 
सबसे बड़ा आतंक

छोटे से लेकर बड़े-बड़ों के हाथ 
कुछ की मजबूरी तो कुछ के लालच की है बात
लाखो करोड़ो रुपया गबन कर चलाया कारोबार 
अरबों रुपया कमा उसे छुपाया समुन्दर पार

मुद्रास्फीति को नुक्सान पंहुचा बढ़ाई महंगाई
आम आदमी के जीने को न कोई राह बचाई
जहाँ मिले वहां बटोर लेने का हो गया है सपना 
दूसरे की सोचे बिना जेब भरना मकसद है अपना  

सरकारी कागज़ात हो चाहे 
पेंशन की हो बात 
जेब ढीली किये बिना यहाँ बनती नहीं कोई बात

अज्ञानता के अधीन हो 
गवा रहे हैं अधिकार
सिर्फ एक बार सोचकर रिश्वत देते बार-बार

स्वतंत्र हैं पर परतंत्रता की तरफ बढ़ रहे हैं हम
कोई मुल्क न सही इस बार 
भ्रष्टाचार हमें बना रहा है परतंत्र.

                                                                                                                   प्रस्तुतकर्ता: अखिल तिवारी
                                                                                                                              View Profile

                                                                                                                      

4 comments:

  1. (y)
    Well said,
    bhrastachaar muqt bhaarat…hamari maang nahi, hamari zidd hai.!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. To make a corruption free Nation we need to develope ourselves society will start developing that way :)

      Delete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete