Sunday, 11 May 2014

प्रयास है छोटा सा

                                                  
प्रयास है छोटा सा 
 एक छोटी सी कोशिश बदलाव की ... 
उम्मीद की लौ भी हलकी है जानते हैं .. 
फिर भी कोशिश है इस समय के विद्वानो को जगाने की
कुछ  समानताओं  से  अवगत  कराने  की ..
अहम  की  पट्टी  हटा  कर 

                                                      नई  पहल  जगाने  की 
                                                      जानते तो  हैं ..
                                                      संभव  नहीं 
                                                      फिर  भी  हार  को  न  ठुकराते  हुए 
                                                      कोशिश  है   
                                                      इस  बदलाव  को  सबके  समक्ष  लाने  की 

                                                      एक  छोटी  सी  कोशिश  
                                                      हर  आँखों  के  ख्वाबो  को 
                                                      नई  दिशा  देने  की ..
                                                      एक  छोटी  सी  कोशिश 
                                                      इस  छोटे  परिवर्तन  की 
                                                      जिसमे  साथ  तो  कोई  मिलेगा  नहीं 
                                                      पर  मिलेंगे  कई  विरोधी 
                                                      विरोधी  भी  कोई  और  नहीं ..
                                                      यही ..मेरा  समाज ..मेरा  परिवार 
                                              प्रस्तुतकर्ता: भावना जोशी

No comments:

Post a Comment