Friday, 9 May 2014

कोशिश तो कीजिये



वो  नन्ही  सी  जान  जिसके  नाजुक  कंधो  पर 
पूरे  परिवार  का  बोझ  डाल  दिया जाता  है 
जिसके  अरमानो  को  उसी  की  नज़रो  के  सामने  
 कुचल  दिया   जाता  है  
जिससे  खुली  आँखों  से  ख्वाब  देखने  का  अधिकार  भी  
 दूर  कर  दिया  गया  है 
 इस  समाज  की  यह  कैसी  नीति  है   
 सती  प्रथा  जैसी  कुरीतियों  से 


शारीरिक  रूप  से  तो  उठ  गए  हैं
पर  उस  मानसिकता  का  क्या  जो  हर  दिन
  एक  नई  सती  प्रथा  को  जन्म  दे  रही  है                                                                         
उठिए  जागिये 
शिक्षित  होने  की  कोशिश  कीजिये   
  कमाने  के  लिए  नहीं  बल्कि  
एक   अच्छा  इंसान  बनने  के  लिए ...
जागिए  और  सही  दिशा  पहचानिए ...............
  प्रस्तुतकर्ता: अखिल तिवारी 

No comments:

Post a Comment